Skip to content

सेतु बंध सर्वांगासन क्या है? सेतु बंध आसन का सही तरीका

सेतु बंध आसन का सही तरीका- यदि आप योग के लिए नये हैं तो आप सोच रहे होंगे कि सेतु बंध सर्वांगासन क्या है? यह मुद्रा, योग प्रदर्शनों की सूची में अधिक उन्नत आसनों में से एक है और इसे अक्सर ध्यान मुद्रा के रूप में उपयोग किया जाता है। इस मुद्रा में क्या शामिल है और सेतु बन्ध सर्वांगासन क्या है,  इसका संक्षिप्त विवरण यहां दिया गया है:

सेतु बंध सर्वांगासन (Setu Bandha Sarvangasana)
Yogahath instructor is performing सेतु बंध सर्वांगासन (Setu Bandha Sarvangasana)

सेतु बंध सर्वांगासन क्या है?

सेतु बंध सर्वांगासन (Setu Bandha Sarvangasana) नाम ब्रिज पोज (bridge pose) का हिन्दी अनुवाद है। यह शरीर के मध्य हिस्से को उठाने वाला आसन है, जिसमे दोनों हाथों को जमीन पर टिकाया जाता है और दोनों हाथों की सहायता से शरीर को ऊपर की तरफ उठाया जाता है। यह एक गहरी शांत मुद्रा है जिसे चिंता और तनाव को कम करने में मदद करने के लिए आपकी दिनचर्या के हिस्से के रूप में अभ्यास किया जा सकता है।

सेतु बंध सर्वांगासन कैसे करें?

सेतु बन्ध सर्वांगासन क्या है यह जान लेने के बाद अब हम यह जानेंगे कि सेतु बन्ध सर्वांगासन कैसे करें? इसको करने की विधि निम्न प्रकार है :-

1. सर्वप्रथम जमीन पर अपने पैरों के फ्लैट और अपने पक्षों पर बाहों के साथ अपनी पीठ पर सपाट लेटें। अपने हाथों को अपने सिर के दोनों ओर रखें, हथेलियाँ नीचे की तरफ रहें।

2. जब तक आपके कूल्हे कंधों के ऊपर हवा में आराम नहीं कर रहे हैं, तब तक अपने कूल्हों को जमीन से उठाएं। स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए अपने उदरीय भाग को पूरे पोज़ में रखें।

3. श्वास छोड़ें और तब तक आगे बढ़ें जब तक आप अपनी छाती और गर्दन में गहरा खिंचाव महसूस न करें। धीरे-धीरे शुरुआती स्थिति में वापस आने से पहले कुछ सेकंड के लिए अपने टखनों को पकड़िए।

4. जितनी बार चाहें उतनी बार पोज़ दोहराएं। अपनी रीढ़ को सीधा रखना याद रखें और अपनी छाती को सीधा उठायें।

5. यदि आपको लगता है कि यह मुद्रा बहुत चुनौतीपूर्ण है तो अपने शरीर का समर्थन करने में मदद करने के लिए एक बोल्ट या तकिया का उपयोग करें।

सेतु बंध सर्वांगासन ध्यान के लिए एक अच्छा आसन क्यों है?

सेतु बंध सर्वांगासन एक गहरी शांत मुद्रा है जो चिंता और तनाव को कम करने में मदद करती है। यह मुद्रा छाती और गर्दन को भी खोलती है  जो आपकी भलाई की भावना को बढ़ाने में मदद करती है।  

जैसा कि कोई व्यक्ति जो नियमित रूप से चिंता और तनाव से ग्रस्त है, YOGAHATH व्यक्तिगत रूप से सेतु बंध सर्वांगासन के अभ्यास के लाभों की गवाही दे सकता है।

यदि आप एक ऐसी मुद्रा की तलाश कर रहे हैं जो आपको ध्यान केंद्रित करने और आराम करने में मदद कर सकती है  तो YOGAHATH.COM सेतु बंध सर्वांगासन का अभ्यास करने की सलाह देता है। सेतु बंध सर्वांगासन ध्यान के लिए एक अच्छा आसन है इसमे किसी भी प्रकार की दो राय नहीं है।

सेतु बन्ध सर्वांगासन कैसे करें?

यदि आप अपने पोज़ में थोड़ा अतिरिक्त जोड़ना चाहते हैं, तो आप सेतु बन्ध सर्वांगासन को प्लैंक पोज़  के रूप में भी आज़मा सकते हैं। यह मुद्रा आपकी छाती और कंधों को खोलने, आपकी गर्दन को फैलाने और आपके संतुलन को बेहतर बनाने का एक शानदार तरीका है। आइए जानते है कि सेतु बन्ध सर्वांगासन कैसे करें :

1) अपने हाथों को अपने पैरों के नीचे कूल्हों की चौड़ाई के साथ तख़्त की स्थिति में रखकर शुरू करें।

2) अपनी रीढ़ को सीधा रखें, अपनी छाती और ठोड़ी को आकाश की ओर उठाएं, और श्वास छोड़ें।

3) इस मुद्रा को कई मिनटों के लिए बनाए रखें, फिर धीरे-धीरे वापस तख़्त स्थिति में वापस आकर शरीर को आरामदायक अवस्था में छोड़ दें।

किसी भी मुद्रा का प्रदर्शन करते समय हमेशा सावधानी बरतें  और हमेशा एक नई कसरत दिनचर्या शुरू करने से पहले एक स्वास्थ्य पेशेवर से परामर्श करें।

इसे भी पढ़ें – आसन कितने प्रकार के होते हैं?

सेतु बंध सर्वांगासन के लाभ

ऊपर हमने जाना कि सेतु बन्ध सर्वांगासन क्या है, सेतु बन्ध सर्वांगासन कैसे करें और सेतु बन्ध सर्वांगासन ध्यान के लिए अच्छा आसन क्यों है। अब हम इसके लाभ के बारे में जानेंगे:-

यदि आप अपनी सुबह बिताने के लिए एक आरामदायक और आरामदायक तरीके की तलाश कर रहे हैं, तो कोशिश करें बंध सर्वांगासन (bridge pose) की। यह मुद्रा आपके शरीर के लिए कई तरीकों से फायदेमंद है।

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, सेतु बंध सर्वांगासन आपके लचीलेपन को बेहतर बनाने का एक शानदार तरीका है। यदि आप अपनी गर्दन, कंधे और पीठ में तनाव को दूर करना चाहते हैं तो यह एक शानदार मुद्रा है। इसके अतिरिक्त, यह मुद्रा आपके कूल्हों और पैरों में तनाव को कम करने का एक शानदार तरीका है।

सेतु बंध सर्वांगासन का एक और लाभ यह है कि यह आपके संतुलन को बेहतर बनाने में मदद करता है। यदि आप अपने आप को लगातार गिरते हुए या खड़े रहने में परेशानी पाते हैं  तो सेतु बंध सर्वांगासन का अभ्यास करने से आपके संतुलन और स्थिरता में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

और अंत में यही कहूँगा कि  सेतु बंध सर्वांगासन भी आपकी एकाग्रता और फोकस को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। इस मुद्रा का उपयोग अक्सर योग चिकित्सकों द्वारा मन को आराम देने और ध्यान या चिंतन की अनुमति देने के लिए किया जाता है। यदि आप खुद को अन्य गतिविधियों के दौरान या दिन के दौरान एकाग्रता से जूझते हुए पाते हैं, तो सेतु बंध सर्वांगासन का अभ्यास करना मन को शांत करने और ध्यान बढ़ाने का एक अच्छा तरीका हो सकता है।

इसलिए यदि आप अपनी सुबह बिताने के लिए एक आरामदायक आसन और आरामदायक तरीके की तलाश कर रहे हैं, तो सेतु बंध सरवांगसाना का अभ्यास करने का प्रयास करें और सेतु बन्ध सर्वांगासन का लाभ उठायें।

सेतु बंध सर्वांगासन के साइड इफेक्ट्स (Side effects of bridge pose)

सेतु बन्ध सर्वांगासन के लाभ से हम परिचित हो चुके हैं। कई लोग सेतु बंध सर्वांगासन (Setu Bandha Sarvangasana) को एक ताज़ा और शांत करने वाला आसन मानते हैं,परंतु इसके  कुछ संभावित दुष्प्रभाव भी हैं जिन्हें इस आसन का अभ्यास करने से पहले समझ लेना चाहिए। द हफिंगटन पोस्ट के अनुसार, सेतु बन्ध सर्वांगासन गर्दन में दर्द, सिरदर्द और बाहों और हाथों में पिन और सुइयों की भावना पैदा कर सकता है।

इसके अतिरिक्त, इस मुद्रा से मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में कमी भी हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप चक्कर आना या बेहोशी हो सकती है। इसलिए, इन संभावित दुष्प्रभावों के बारे में पता होना और किसी भी योग अभ्यास (What is Yoga?) की शुरुआत से पहले उन्हें ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है ताकि सेतु बन्ध सर्वांगासन से होने वाले साइड इफेक्ट से बचा जा सके।

यदि आप निम्नलिखित में से किसी भी दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं, तो योग का अभ्यास करना तुरंत बंद कर देना चाहिए और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना महत्वपूर्ण है। जैसे:- हाथ या पैरों में सुन्नता या झुनझुनी, बोलने या निगलने में कठिनाई, अचानक सिरदर्द, दृष्टि में परिवर्तन, चक्कर आना या प्रकाशहीनता, सांस की तकलीफ, अत्यधिक थकान।

निष्कर्ष

केवल यह जान लेना ही काफी नहीं है की सेतु बन्ध आसन क्या है और सेतु बन्ध आसन कैसे करें आपको प्रतिदिन इसका अभ्यास करना होगा तभी सेतु बन्ध आसन के सभी लाभ आपको मिल पाएंगे। यदि आप अपने लचीलेपन और गतिशीलता में सुधार करना चाहते हैं, तो शुरू करने के लिए सेतु बंध सर्वांगासन एक शानदार मुद्रा है जिसके शरीर के लिए असंख्य लाभ हैं।

यह आसन छाती और रीढ़ को खोलने में मदद करता है, जो समग्र मुद्रा में सुधार करने और गर्दन, कंधे और पीठ में तनाव को कम करने में मदद करता है। जब नियमित रूप से अभ्यास किया जाता है, तो सेतु बन्ध सर्वांगासन आपको गति की अधिक से अधिक रेंज प्राप्त करने और कंधे की करधनी, कूल्हों, हैमस्ट्रिंग और पीठ के निचले हिस्से में बेहतर लचीलापन प्राप्त करने में मदद करता है।

इसके अतिरिक्त, सेतु बंध सर्वांगासन आपके संतुलन और एकाग्रता को बेहतर बनाने में मदद करता है।  नतीजतन, इस मुद्रा का उपयोग अक्सर चिकित्सकों द्वारा तनाव को कम करने और फोकस बढ़ाने के तरीके के रूप में किया जाता है।  अंत में, सेतु बंध सर्वांगासन का निरंतर अभ्यास करने से आपकी भलाई की भावना को बेहतर बनाने और चिंता और तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है।

Recent Post

Learn Yoga Online