Skip to content

आसन कितने प्रकार के होते हैं? आसन के लाभ क्या हैं?

आसन कितने प्रकार के होते हैं? आसन एक प्रकार का योग है जिसके हमारे शरीर के लिए कई लाभ हैं। इस लेख में  हम विभिन्न प्रकार के आसन और उनके लाभों पर चर्चा करेंगे।

आसन कितने प्रकार के होते हैं?
Yogahath Instructor practicing a Yoga pose

आसन क्या हैं?

आसन योग का ही एक अंग है, जो प्राचीन भारतीय इतिहास से आता है। ये आम तौर पर खड़े होकर प्रदर्शित किये जाते हैं, लेकिन इन्हे बैठने या लेटने की स्थिति में भी किया जा सकता है। दर्जनों आसन हैं, प्रत्येक के अपने लाभ हैं। यहाँ कुछ सबसे आम हैं:

आसन के लिए मूल मुद्रा डाउनवर्ड-फेसिंग (downward- facing) डॉग या दण्डासन है।  यह स्थिति रीढ़ को फैलाती है, छाती और कंधों को खोलती है  और आंतरिक अंगों को उत्तेजित करती है।  यह शरीर के लचीलेपन और परिसंचरण में सुधार के लिए एक महान मुद्रा है।  अन्य लोकप्रिय आसन में बच्चे की मुद्रा (Child pose), योद्धा मुद्रा (warrior pose/Virabhadrasana), कैट-काउ (cat-cow), पर्वतासन (mountain pose) और भुजंगासन (cobra pose/Bhujangasana ) शामिल हैं।

कई अलग-अलग प्रकार के आसन हैं, जिनके अपने अलग-अलग लाभ हैं। यदि आप अपना लचीलापन बढ़ाना चाहते हैं या अपने संरेखण में सुधार करना चाहते हैं, तो कुछ अलग पोज़ आज़माएँ!

आसन कितने प्रकार के होते हैं?

आसन (योग आसन) विभिन्न उद्देश्यों के लिए उपयोग किए जाते हैं। आइए पता करते है की आसन कितने प्रकार के होते हैं? आसन और उनके लाभ के सबसे सामान्य प्रकार निम्नलिखित हैं:

1. पद्मासन (लोटस पोज़/lotus pose): यह आसन  बैठ कर किया जाता है, जिसे योग में सबसे मौलिक मुद्रा माना जाता है।  इसका उपयोग तनाव को दूर करने, संतुलन में सुधार और लचीलेपन को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

2. वीरभद्रासन-1 (योद्धा मुद्रा/ warrior pose-1): इस मुद्रा का उपयोग अक्सर पीठ और पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए किया जाता है। यह रीढ़ की हड्डी के संरेखण में सुधार करने और गर्दन और कंधों में तनाव को कम करने में भी मदद करता है।

3. वीरभद्रासन-2 ( योद्धा मुद्रा-2/ warrior pose-2): यह मुद्रा वीरभद्रासन -1 के समान है, लेकिन यह अधिक चुनौतीपूर्ण है।  इसका प्रयोग पीठ और पेट की मांसपेशियों में लचीलापन और ताकत में सुधार करने के लिए किया जाता है।

4. गरुड़ासन (Eagle pose): यह मुद्रा रीढ़ की हड्डी, गर्दन और कंधे की मांसपेशियों को मजबूत करता है। यह आसन शरीर की बनावट को बेहतर बनाने और गर्दन, कंधे और पीठ में तनाव को कम करने में भी मदद करता है।

5. अर्ध चंद्रासन (Half-moon pose): इस आसन का प्रयोग जांघों, कूल्हों,पीठ के निचले हिस्से और कूल्हों को मजबूत करने के लिए किया जाता है। यह तनाव से भी राहत देता है और संतुलन में भी सुधार करता है।

6.बद्ध कोनासन (Bound angle pose): इस आसन का प्रयोग तनाव को दूर करने और कूल्हों और रीढ़ में लचीलापन बढ़ाने के लिए किया जाता है।

7. उपविष्ठ कोनसाना (upward facing dog pose): इस आसन का प्रयोग पीठ के निचले हिस्से, कूल्हों और जांघों में संतुलन और तनाव से राहत के लिए किया जाता है।

8. मत्स्यासन (fish pose): इस आसन का प्रयोग कूल्हों, रीढ़ और कंधों को फैलाने के लिए किया जाता है। यह तनाव से भी राहत देता है और लचीलेपन में भी सुधार करता है।

9. दण्डासन (staff pose): इस आसन का प्रयोग रीढ़, छाती, हाथ और ग्लूट्स को फैलाने के लिए किया जाता है. यह संतुलन और लचीलेपन में भी सुधार करता है।

10. पश्चिमोत्तान आसन 1 (West facing dog pose): इस आसन का उपयोग कूल्हों, रीढ़ और पैरों में संतुलन, मुद्रा और लचीलेपन को बेहतर बनाने के लिए किया जाता है।

11. पश्चिमोत्तान आसन 2 ( West facing dog pose): यह आसन पश्चिमोत्तान आसन 1 66 की तुलना में अधिक चुनौतीपूर्ण है और इसका उपयोग कूल्हों, रीढ़ और पैरों में संतुलन, मुद्रा और लचीलेपन में सुधार के लिए किया जाता है।

12. उत्तान आसन (Standard forward bend): इस आसन का प्रयोग छाती, कंधे, पीठ और कूल्हों को फैलाने के लिए किया जाता है। यह तनाव से भी राहत देता है और लचीलेपन में सुधार करता है।

13. जानू शीर्षासन (head to knee pose): इस पोज़ का इस्तेमाल गर्दन, कंधे, छाती और कूल्हों को फैलाने के लिए किया जाता है। यह तनाव से भी राहत देता है और लचीलेपन में सुधार करता है।

14. हलासाना (plough pose): इस पोज का इस्तेमाल पीठ के निचले हिस्से, कूल्हों और जांघों में तनाव को दूर करने के लिए किया जाता है।यह संतुलन और लचीलेपन में सुधार करने में भी मदद करता है.

15. वीरभद्रासन -3 (warrior pose-3): यह मुद्रा वीरभद्रासन-2 की तुलना में अधिक चुनौतीपूर्ण है और इसका प्रयोग पीठ और पेट की मांसपेशियों में लचीलापन, शक्ति और संतुलन में सुधार करने के लिए किया जाता है

16. सुप्त वीरभद्रासन-3 (reclining warrior pose-3): इस आसन का प्रयोग पीठ और पेट की मांसपेशियों में लचीलापन और मजबूती को बेहतर बनाने के लिए किया जाता है।

17. पश्चिमोत्तान आसन-3 (west facing dog pose-3): यह आसन पश्चिमोत्तान आसन की तुलना में अधिक चुनौतीपूर्ण है और इसका प्रयोग कूल्हों, रीढ़ और पैरों में संतुलन, मुद्रा और लचीलेपन में सुधार के लिए किया जाता है।

18. जानू शीर्षासन-2 (Head to knee pose-2): इस पोज़ का इस्तेमाल गर्दन, कंधे, छाती और कूल्हों को फैलाने के लिए किया जाता है. यह तनाव से राहत देता है और लचीलेपन में भी सुधार करता है।

आसन के लाभ

आसन एक प्रकार का योग है (What is Yoga) जो प्राचीन समय से है। इसमें कई अलग-अलग आसन हैं, और उनके अलग-अलग लाभ हैं। बस हमें यह अवश्य मालूम हो की आसन को सही तरीके से कैसे करें।

आसन के कुछ लाभों में शामिल हैं: बेहतर परिसंचरण, लचीलापन में वृद्धि, दर्द से राहत, मानसिक स्पष्टता में सुधार और बेहतर नींद। आसन के कई अलग-अलग रूप हैं, इसलिए आप एक ऐसा आसन चुन सकते हैं जो आपके लिए एकदम सही है।

यदि आप आसन के लिए नए हैं, तो सरल आसन से शुरू करें जो आप घर पर कर सकते हैं. समय के साथ, आप धीरे-धीरे आसन की कठिनाई को बढ़ा सकते हैं जब तक कि आप अधिक चुनौतीपूर्ण पोज़ करने में सक्षम न हों और आसन के लाभ न मिलने लगें।

आसन को सही तरीके से कैसे करें?

कई प्रकार के आसन हैं  लेकिन आसन को सही तरीके से कैसे करें? आसन आपके समग्र स्वास्थ्य को आराम और बेहतर बनाने का एक शानदार तरीका है। ये आपके लचीलेपन, संतुलन और ताकत को बढ़ाने में भी मदद करते हैं। कई अलग-अलग प्रकार के आसन हैं  और यह जानना मुश्किल हो सकता है कि कौन से आसन आपके लिए सबसे अच्छे हैं? आसन को सही तरीके से कैसे करें, इस पर एक गाइड है:

1. पहले साधारण आसन से शुरू करें। यदि आप योग या आसन के लिए नए हैं, तो उन आसन से शुरू करें जो आपके लिए करना आसान है। यह आपको अपने आत्मविश्वास और मांसपेशियों की स्मृति का निर्माण करने में मदद करेगा।

2. नित्य अभ्यास करें। आसन अभ्यास महत्वपूर्ण है, लेकिन सुनिश्चित करें कि आप सत्रों के बीच आराम करने के लिए खुद को समय दें। इसे ज़्यादा मत करें; प्रत्येक सत्र केवल 10-15 मिनट तक चलना चाहिए, तभी आसन के लाभ उठाए जा सकते हैं।

3. अपनी स्थिति समायोजित करें। यदि आप पाते हैं कि एक मुद्रा बहुत चुनौतीपूर्ण है, तो अपनी स्थिति को तब तक समायोजित करें जब तक आप तीव्रता के आरामदायक स्तर तक नहीं पहुंच जाते। यह चोट को रोकने में मदद करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि आप अपने योगाभ्यास से सबसे अधिक लाभ उठाएं।

4. ब्रेक लें। अपने शरीर को पूरी तरह से ठीक होने की अनुमति देने के लिए आसन अभ्यास में एक ब्रेक लें। यह आपके लचीलेपन और संतुलन को बनाए रखेगा।

5. धैर्य रखें। आसन को सही तरीके से करने के लिए सीखने में कुछ समय लग सकता है। यदि आप अपने लक्ष्यों तक तुरंत नहीं पहुँचते हैं तो निराश न हों; यह समय लगेगा और आपको मास्टर आसन तक लेकर जाएगा।

यदि आपके पास आसन के बारे में कोई प्रश्न हैं जैसे की आसन को सही तरीके से कैसे करें?, तो अपने योग शिक्षक से बात करें। वे आपके अभ्यास को पूरा करने में आपकी मदद कर सकते हैं और आप आपकी इच्छानुसार परिणाम प्राप्त कर सकते हैं।

निष्कर्ष

योग में कई प्रकार के आसन हैं। आसन के अभ्यास से होने वाले लाभ इस बात पर निर्भर करते हैं कि आप किस प्रकार के व्यक्ति हैं। यदि आप अपने लचीलेपन में सुधार करने, तनाव से राहत देने या चोट के जोखिम को कम करने के लिए एक रास्ता तलाश रहे हैं, तो आसन एक उत्कृष्ट विकल्प है। यदि आप किसी प्रकार के मानसिक या भावनात्मक स्वास्थ्य के मुद्दे से जूझ रहे हैं तो योगासन में चिकित्सीय शक्ति की एक जबरदस्त क्षमता भी है।

Learn Yoga Online

Send us your Query!


2 thoughts on “आसन कितने प्रकार के होते हैं? आसन के लाभ क्या हैं?”

  1. Pingback: सेतु बंध सर्वांगासन क्या है? सेतु बंध आसन का सही तरीका - Yogahath

Leave a Reply

Your email address will not be published.